हरियाणा को वैश्विक कृषि पुृरस्कार, 2019 के तहत सर्वश्रेष्ठ पशुपालन राज्य का पुरस्कार हासिल करने का गौरव प्राप्त हुआ है। प्रदेश को यह पुरस्कार पशुपालन क्षेत्र और किसान की अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन पर व्यापक सकारात्मक प्र्रभाव डालने वाली महत्वपूर्ण....

  • चंडीगढ़, 6 नवम्बर- हरियाणा को वैश्विक कृषि पुृरस्कार, 2019 के तहत सर्वश्रेष्ठ पशुपालन राज्य का पुरस्कार हासिल करने का गौरव प्राप्त हुआ है। प्रदेश को यह पुरस्कार पशुपालन क्षेत्र और किसान की अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन पर व्यापक सकारात्मक प्र्रभाव डालने वाली महत्वपूर्ण नीतिगत पहलों के लिए दिया गया है, जिसने कृषि क्षेत्र के विकास में मदद की है और लाखों किसानों के जीवन को प्रभावित किया है।
  • यह पशुपालन एवं डेयरी विभाग के प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि पशुपालन एवं डेरी विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुनील कुमार गुलाटी ने 5 नवम्बर को दिल्ली में भारतीय चैंबर ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चर द्वारा आयोजित चतुर्थ ग्लोबल एग्रीकल्चर समिट, 2019 में यह पुरस्कार प्राप्त किया।
  • उन्होंने बताया कि राज्य ने वर्ष 2019 के दौरान पशुपालन क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति की है। गाय व भैंसों के लिए संयुक्त एच.एस+एफ.एम.डी टीके का प्रयोग करने वाला हरियाणा देश का प्रथम राज्य है। किसानों के घर-द्वार पर 60 लाख पशुओं को पहले दौर में संयुक्त टीकाकरण किया जा चुका है। फोटो के साथ 52 लाख बड़े पशुओं का पूरा विवरण एकत्र करने के लिए विभाग द्वारा ‘हर पशु का ज्ञान’ नाम के एक मोबाईल एप्लिकेशन शुरू किया गया।
  • उन्होंने बताया कि ‘हर पशु का ध्यान’ में एक नवीन परियोजना पर कार्य किया रहा है, जो देश में अपनी तरह का पहला डाटा संग्रह है। इसका उपयोग पशुपालकों को उनके घर पर ही बड़ी संख्या में सेवायें प्रदान करने के लिये किया जायेगा। उन्होंने बताया कि पशुओं के आनुवंशिक सुधार के लिए हरियाणा पशु (पंजीकरण, प्रमाणन और प्रजनन), अधिनियम, 2019 पारित करने वाला हरियाणा पहला राज्य है। राज्य के प्रत्येक सरकारी पशु चिकित्सालय में पशु स्वास्थ्य कल्याण समितियों का गठन किया गया है। इसके अलावा, राज्य में प्रत्येक पशु स्वास्थ्य कल्याण समिति के स्तर पर पशुधन औषधि भण्डार स्थापित करने की एक अभिनव योजना शुरू की गई है।