हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि देश की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए सार्जेंट विक्रांत सहरावत की शहादत का राष्ट्र सदैव ऋणी रहेगा। ऐसे वीर सपूत पर हमें नाज है और उनका बलिदान युवाओं के लिए प्रेरणा का काम करेगा।

March 05, 2019
  • चंडीगढ, 1 मार्च- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि देश की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए सार्जेंट विक्रांत सहरावत की शहादत का राष्ट्र सदैव ऋणी रहेगा। ऐसे वीर सपूत पर हमें नाज है और उनका बलिदान युवाओं के लिए प्रेरणा का काम करेगा। उन्होंने कहा कि शहीदों के परिवारों की देखभाल करना हमारा दायित्व है। राज्य सरकार शहीद के परिवार को 50 लाख रुपए की अनुग्रह राशि तथा एक आश्रित को सरकारी नौकरी देगी।
  •         श्री मनोहर लाल ने यह बात आज जिला झज्जर के गांव भदानी में शहीद विक्रांत सहरावत के अंतिम संस्कार के उपरांत संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कही। इससे पहले, मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल, वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु तथा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ के साथ शहीद विक्रांत की अंतिम यात्रा में शामिल हुए तथा पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्घांजलि दी।
  • जिला झज्जर के गांव भदानी निवासी सार्जेंट विक्रांत सहरावत गत 27 फरवरी को जम्मू कश्मीर के बड़गाम में शहीद हो गए थे। भारतीय वायु सेना की विशेष यूनिट उनका पार्थिव शरीर लेकर कल देर सांय झज्जर के सिविल अस्पताल पहुंची। सिविल अस्पताल से आज सुबह शहीद विक्रांत के पार्थिव शरीर को गांव भदानी स्थित उनके पैतृक आवास पर लाया गया। इस दौरान युवाओं ने बाइकों के काफिले से जलूस की आगवानी की और जगह-जगह फूल बरसा कर शहीद को श्रद्घांजलि अर्पित की।
  • मुख्यमंत्री ने गांव भदानी में शहीद विक्रांत के घर पहुंच कर पिता कृष्ण कुमार, माता कांता देवी व धर्मपत्नी सुमन को ढांढस बंधाते हुए कहा कि शहीद विक्रांत की शहादत को सदैव याद रखा जाएगा। हरियाणा सरकार शहीद के परिवार के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि प्रभु से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें। शहीद विक्रांत के परिवार में माता-पिता के अलावा धर्मपत्नी सुमन, पुत्र वरदान, पुत्री काव्या, बहन शर्मिला व सुनैना तथा भाई विशांत है।
  • हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने भी शहीद विक्रांत को नमन करते हुए कहा कि ग्राम पंचायत भदानी शहीद की स्मृति के लिए जो भी प्रस्ताव पारित करेगी उसे तुरंत पूरा कराया जाएगा।
  • शहीद विक्रांत का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया। शहीद के पार्थिव शरीर को भारतीय वायु सेना व हरियाणा पुलिस की टुकड़ी ने अंतिम सलामी दी। शहीद विक्रांत के पार्थिव शरीर को उनके पुत्र वरदान ने मुखाग्नि दी। शहीद की अंतिम यात्रा में विभिन्न संगठनों व सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि शामिल हुए। वहीं स्क्वाड्रन लीडर सिद्घनाथ सिंह के नेतृत्व में श्रीनगर से एयर फोर्स की यूनिट गांव भदानी पहुंची।